echo test for heart

इकोकार्डियोग्राम परीक्षण (Echocardiogram test) या इको परीक्षण (Echo Test) आपके दिल की छवियों (Images) को तैयार करने के लिए ध्वनि तरंगों (sound waves) का उपयोग करता है जो हृदय की धड़कन और हृदय द्वारा रक्त पंप करने की कल्पना करने में मदद कर सकता है।

आमतौर पर लोग इकोकार्डियोग्राम परीक्षण (Echocardiogram test) और इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (Electrocardiogram) के बीच भ्रमित हो जाते हैं। इसलिए, इस लेख में हम इन दोनों परीक्षणों के बीच स्पष्ट अंतर के बारे में चर्चा करेंगे, साथ में हम उन स्थितियों के बारे में बात करेंगे जब चिकित्सक इको परीक्षण की सुझाव दे सकता है और अंत में हम देखेंगे की आप किस तरह से इको परीक्षण के परिणाम को समझ सकते हैं।

दिल के लिए इको टेस्ट क्या है और यह क्यों किया जाता है (What is an echo test for the heart and why is it done)

चिकित्सक आपके दिल की बनावट (structure) को देखने के लिए एक इको परीक्षण (Echo Test) की सलाह देते हैं और मूल्यांकन करते हैं कि आपका दिल कितनी अच्छी तरह काम कर रहा है। इको परीक्षण (Echo Test) निम्नलिखित स्थितियों में किया जाता है:

  • हृदय में प्रवेश करने या छोड़ने वाली बड़ी रक्त वाहिकाओं (Large Blood Vessels) से संबंधित समस्या की जांच करने के लिए
  • पेरीकार्डियम (Pericardium) से संबंधित समस्या , यानी दिल की बाहरी परत (Outer Lining of The Heart) से जुड़ी समस्याओं की जांच करने के लिए
  • हृदय के बीच किसी भी छेद की उपस्थिति जांचने के लिए
  • हृदय में रक्त के थक्कों की उपस्थिति जांचने के लिए
  • समय के साथ हृदय रोग की निगरानी करने के  लिए

परीक्षण में जिन प्रमुख मापदंडों का मूल्यांकन किया जाता है उनमें शामिल हैं:

  • आपके दिल की आकृति और आकार
  • आपके दिल और दिल की दीवारों (Heart Walls) की हलचल
  • दिल की दीवारों (Heart Walls) की मोटाई
  • दिल की पंपिंग ताकत
  • हृदय वाल्वों (Heart Valves) का कार्य
  • आपके हृदय वाल्व (Heart Valves) के माध्यम से रक्त का रिसाव (Leakage)
  • हृदय वाल्व (Heart Valves) का संकुचन (सिकुड़न)
  • हृदय वाल्व (Heart Valves) के आसपास संक्रामक (infectious) वृद्धि या ट्यूमर (tumor) 

ईसीजी और इकोकार्डियोग्राफी में क्या अंतर है? (What is the difference between ECG and Echocardiography?)

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (Electrocardiogram) और इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) अक्सर समान शब्दों और एक ही अंग की परीक्षण के कारण भ्रमित करने वाले हो सकते हैं। इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG) और इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) हृदय रोगों (Heart diseases) के लिए महत्वपूर्ण परीक्षण हैं।

इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) परीक्षण एक अल्ट्रासाउंड (Ultrasound) है जो चलती तस्वीरों (moving images) की मदद से हृदय की संरचना (structure) और कार्य (work) के बारे में जानकारी प्रदान करता है। इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG)  एक ट्रैकिंग परीक्षण है जो हृदय की लय (rhythm ) का पता लगाता है। ये दोनों परीक्षण एकदूसरे के पूरक हैं।

इकोकार्डियोग्राफी के परिणामों को कैसे समझें? (How to understand the results of echocardiography?)

इको परीक्षण (Echo Test) इजेक्शन फ्रैक्शन (Ejection fraction) का मान देता है, यानी प्रत्येक दिल की धड़कन (heart beat) के बाद निलय (ventricles) (मस्तिष्क अथवा हृदय के अदर स्थित गुहा) से रक्त पंप किया जाता है। इजेक्शन फ्रैक्शन (Ejection fraction) के सामान्य मान नीचे सारणीबद्ध हैं:

क्र.सं. इजेक्शन फ्रैक्शन (Ejection Fraction) निष्कर्ष (Inference)
1 50% – 70% सामान्य (Normal)
2 40% – 49%  सीमा रेखा

(Borderline)

3 < 40% कम (Low)
4 > 70% उच्च (High)

इको परीक्षण (Echo Test) की रिपोर्ट कुछ प्रमुख सूचनाओं की जानकारी दे सकती है। एक इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) के इन परिणामों में शामिल हैं

  • इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) हृदय की दीवारों के मोटे होने या हृदय के कक्षों (heart chamber) के बढ़ने के कारण हृदय के आकार में होने वाले किसी भी परिवर्तन को प्रभावी ढंग से निर्धारित कर सकता है। हृदय के आकार में परिवर्तन का कारण बनने वाले मुख्य कारणों में उच्च रक्तचाप (High Blood Pressure), क्षतिग्रस्त या कमजोर हृदय वाल्व (Heart valves) शामिल हैं।
  • इको (Echo) रिपोर्ट इजेक्शन अंश (Ejection Fraction) और कार्डियक आउटपुट (Cardiac Output) (यानी एक मिनट में पंप किया गया रक्त) का प्रतिशत भी देती है। अपर्याप्त पंपिंग शक्ति वाला हृदय, हृदय की विफलता (Heart Failure) का कारण बन सकता है।
  • इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) की मदद से, डॉक्टर हृदय की मांसपेशियों (heart muscles) को होने वाले किसी भी नुकसान की पहचान कर सकते हैं जो हृदय की सामान्य पंपिंग को प्रभावित कर सकता है।
  • एक इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) यह भी बता सकता है कि रक्त के किसी भी रिसाव (leakage) को रोकने के लिए आपके हृदय के वाल्व (heart valve) खुले और पूरी तरह से बंद हैं या नहीं।
  • एक इकोकार्डियोग्राम (Echocardiogram) प्रमुख रक्त वाहिकाओं (main heart chambers) और हृदय के बीच असामान्य कनेक्शन, हृदय कक्षों से संबंधित मुद्दों और जन्म के समय मौजूद हृदय में किसी भी दोष की पहचान कर सकता है।

निष्कर्ष (conclusion)

अब जब आपको इको परीक्षण (Echo Test) के बारे में गहराई से जानकारी हो गई है और अब आपको पता है की किन मामलों में इको परीक्षण (Echo Test) की आवश्यकता होती है। साथ ही हमे उम्मीद है की  अब आपको इको परीक्षण (Echo Test) से प्राप्त विभिन्न परिणामों का अर्थ, और इको परीक्षण (Echo Test) और ईसीजी परीक्षण (ECG Test) के बीच प्रमुख अंतर की बारे में गहराई से जानकारी हो गई है। 

अधिकतर पूछे जाने वाले सवाल (एफएक्यू)

#1. कौन सी परीक्षण अधिक सटीक परीक्षण है, ईसीजी परीक्षण या इको परीक्षण? (Which test is more accurate, ECG test or Echo test?)

हृदय की संरचना और कार्य का निर्धारण करने के लिए, एक इको परीक्षण (Echo Test) को अधिक सटीक माना जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि ईसीजी परीक्षण (ECG Test) किसी भी संभावित स्वास्थ्य स्थिति का संकेत देता है, जबकि इको परीक्षण (Echo Test) हृदय वाल्व (heart valves) के कार्यों के बारे में जानकारी देता है।

#2. भारत में एक इको परीक्षण की लागत कितनी हो सकती है? (How much can an echo test cost in India?)

भारत में एक इको परीक्षण (Echo Test) की लागत देश के विभिन्न भागों में लगभग 1750/- रुपये है।

#3. क्या इको परीक्षण खाली पेट करना चाहिए? (Should echo test be done on an empty stomach?)

नहीं, परीक्षण के दिन आपको खाली पेट रहने की कोई जरूरत नहीं है। आप खापी सकते हैं, जैसा कि आप अपने बाकी दिनों में करते हैं।

Ms. Srujana is Managing Editor of Cogito137, one of India’s leading student-run science communication magazines. I have been working in scientific and medical writing and editing since 2018. I am also associated with the quality assurance team of scientific journal editing. I am majoring in Chemistry with a minor in Biology at IISER Kolkata.

Leave a Reply

Your email address will not be published.