Best Toilet Soaps in India

साबुन हमारे घर में इस्तेमाल की जाने वाली सबसे बुनियादी चीजों (basic thing)में से एक है और निश्चित रूप से हम इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं कि हम किस साबुन का उपयोग कर रहे हैं। हम में से अधिकांश लोग साबुन खरीदते हैं जिसमें आकर्षक पैकिंग या अच्छा रंग और सुगंध होती है। लेकिन क्या आप वास्तव में देखते हैं कि साबुन में क्या है और यह आपके लिए सही विकल्प है या नहीं? साबुन आपकी त्वचा और शरीर के स्वास्थ्य का निर्धारण करते हैं, इसलिए, आपको यह सुनिश्चित करना चाहिए कि आप केवल एक अच्छी क्वालिटी वाला साबुन ही खरीदें। इस आर्टिकल  में, जानें कि आप कैसे निर्धारित कर सकते हैं कि साबुन अच्छा है या बुरा, टीएफएम वैल्यू  और साबुन की ग्रेडिंग प्रणाली और सर्वश्रेष्ठ साबुन ब्रांड।

टीएफएम क्या है?(What is TFM?)

टीएफएम या टोटल फैटी मैटर साबुन की  क्वालिटी निर्धारित करने वाले सबसे महत्वपूर्ण पैरामीटर्स  में से एक है। टीएफएम से तात्पर्य फैटी (fatty) पदार्थ की कुल मात्रा से है जो हाइड्रोक्लोरिक एसिड जैसे मिनरल एसिड का उपयोग करने पर साबुन के सैंपल से अलग हो जाता है। साबुन में  फैटी अमाउंट आमतौर पर पामिटिक एसिड, स्टीयरिक एसिड, ओलीक एसिड और सोडियम ओलीएट(palmitic acid, stearic acid, oleic acid, and sodium oleate) जैसे फैटी एसिड से आती है, जिसके कारण साबुन का टीएफएम लेवल लगभग 92.8% हो जाता है। अब, छोटे और मध्यम आकार की  फैक्ट्रीज ने साबुन बनाने के लिए साबुन की गोलियों का उपयोग करना शुरू कर दिया है, जो टीएफएम वैल्यू को 14% नमी वाले 78 प्रतिशत तक कम कर देता है। यदि साबुन में फिलर्स और प्रिजर्वेटिव मिलाए जाते हैं, तो टीएफएम का मान 50% तक भी गिर सकता है।

साबुन में कुल फैटी पदार्थ साबुन की क्वालिटी का निर्धारण करने वाला मुख्य  इंग्रेडिएंट (key ingredient) है। टीएफएम का मान जितना अधिक होगा, यह आपकी त्वचा के लिए उतना ही कम हानिकारक होगा। टीएफएम से निकाले गए निष्कर्ष हैं:

  • टीएफएम का उच्च मूल्य इंडिकेट् करता है कि साबुन अत्यधिक हाइड्रेटिंग है, इसलिए आपकी त्वचा को कोई सूखापन(dryness) नहीं होगा। ऐसे साबुन आपकी त्वचा के लिए सबसे कम हानिकारक माने जाते हैं।
  • टीएफएम का कम मान यह इंडिकेट्स करता है कि साबुन आपकी त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है। ऐसे साबुन आपकी त्वचा में मौजूद सारे मॉइस्चर को बाहर निकाल देते हैं, जिससे आपकी त्वचा रूखी हो जाती है। त्वचा का सूखापन सेंसिटिविटी की ओर ले जाता है जो अंततः स्किन इन्फेक्शन्स , ब्रेकडाउन , और  रैशेस  का कारण बन सकता है।

साबुन के विभिन्न ग्रेड क्या हैं?(What are the different grades of soap?)

इंडियन स्टैंडर्ड्स ब्यूरो ( Bureau of Indian Standards (BIS)) के अनुसार, टॉयलेट साबुन को उनके गुणों और टोटल फैटी  मैटर (टीएफएम) सामग्री के आधार पर तीन ग्रेड्स में वर्गीकृत किया जाता है। बीआईएस  स्पेसिफिकेशन्स  में वर्णित टॉयलेट साबुन के ग्रेड इस प्रकार हैं:

ग्रेड I(Grade I)

साबुन को ग्रेड I (उच्च ग्रेड साबुन) के रूप में वर्गीकृत करने के लिए  गाइडलाइन्स  हैं:

  • इन साबुनों को अच्छी तरह से साबुनीकृत(saponified) किया जाना चाहिए।
  • उन्हें मिल्ड या समरूप(homogenised) बनाया जा सकता है।
  • वे सफेद, रंगीन और सुगंधित हो सकते हैं।
  • उन्हें एक फर्म और चिकने केक के रूप में कंप्रेस्ड किया जाना चाहिए।
  • उनके पास अच्छे झाग और सफाई के गुण होने चाहिए।
  • उनका न्यूनतम टीएफएम  वैल्यू  लगभग 76% होना चाहिए।

ग्रेड II(Grade II)

साबुन को ग्रेड II साबुन के रूप में वर्गीकृत करने के लिए गाइडलाइन्स हैं:

  • इन साबुनों को भी अच्छी तरह से साबुनीकृत (saponified)किया जाना चाहिए।
  • इन साबुनों की बनावट दृढ़ (Firm)और चिकनी होनी चाहिए।
  • वे सफेद, रंगीन या सुगंधित हो सकते हैं।
  • इन साबुनों में झाग निकालने और सफाई करने के गुण भी अच्छे होने चाहिए।
  • इन साबुनों का टीएफएम वैल्यू  70% के बराबर होती है

ग्रेड III(Grade III)

ग्रेड III साबुन के लिए बीआईएस द्वारा निर्धारित गाइडलाइन्स हैं:

  • उन्हें सैपोनिफाइड, चिकना और बनावट में दृढ़ होना चाहिए।
  • क्रेसिलिक एसिड (cresylic acid) की उपस्थिति के कारण वे आम तौर पर लाल रंग के होते हैं। हालांकि, वे सफेद या रंगीन भी हो सकते हैं।
  • उनके पास अच्छे झाग और सफाई के गुण भी होने चाहिए।
  • ऐसे साबुनों का टीएफएम  वैल्यू 60% से कम नहीं होना चाहिए

सबसे अच्छे टॉयलेट साबुन कौन से हैं?(Which are the best toilet soaps in India?)

सबसे अच्छे टॉयलेट साबुन वे होते हैं जिनका उच्च टीएफएम मान होता है। इसलिए, यदि आप ग्रेड I साबुन नहीं खरीद रहे हैं तो आप लो क्वालिटी  वाले साबुन में इन्वेस्ट कर रहे हैं। आप साबुन के बैक कवर को देखकर आसानी से उसका टीएफएम जान सकते हैं। यहां कुछ भारतीय ब्रांड ग्रेड I वाले उच्च क्वालिटी साबुन का प्रोडक्शन करते हैं।

मैसूर संदल(Mysore Sandal)

यह साबुन कर्नाटक साबुन और डिटर्जेंट द्वारा निर्मित है। इसमें 100% नेचुरल मैसूर चंदन का तेल, बादाम का तेल और  वेजिटेबल तेल शामिल हैं। इसे आमतौर पर मीठी सुगंध के साथ ‘तरल सोना'(liquid gold) कहा जाता है। इस साबुन की रिपोर्ट की गई  टीएफएम वैल्यू  80% है, मैसूर सैंडल के लाभों में एंटीसेप्टिक गुण, मुलायम, पोषित और कायाकल्प त्वचा, झुर्रियों और दोषों की कम उपस्थिति शामिल है।

सिंथोल(Cinthol)

साबुन गोदरेज कंस्यूमर प्रोडक्ट्स  द्वारा निर्मित किया जाता है। यह एक रिफ्रेशिंग साबुन है जो आपकी त्वचा को चमकदार और स्वस्थ रखने में मदद करता है। सिंथोल का उपयोग करने के अन्य लाभों में रैशेस , एक्ने , ब्लेमिशिंग , पॉलुशन , डस्ट , और  सन  एक्सपोज़र  से त्वचा की सुरक्षा  करता हैं  है। यह आपके शरीर की दुर्गंध को दूर रखता है और त्वचा की समस्याओं को भी कम करता है। इस साबुन की रिपोर्ट की गई  टीएफएम वैल्यू 79% है।

सुपीरिया सिल्क (Superia silk)

यह आईटीसी द्वारा निर्मित है। यह साबुन संतरे के छिलके, बटरस्कॉच और बादाम के तेल जैसे नेचुरल इंग्रेडिएंट्स से बना है जो आपकी त्वचा को चमकदार बनाते हैं। इस साबुन की रिपोर्ट की गई टीएफएम वैल्यू 76% है।

गोदरेज फेयर ग्लो (Godrej fair glow)

गोदरेज कंस्यूमर प्रोडक्ट्स द्वारा प्रोड्यूस्ड इस साबुन में एक प्रोटीन फार्मूला होता है जो आपकी त्वचा में मेलेनिन प्रोटीन की मात्रा को कम करके आपकी त्वचा में गोरापन बढ़ाता है और मेलेनिन के  प्रोडक्शन को भी रोकता है। साबुन आपकी त्वचा से अशुद्धियों और गंदगी को दूर करने में भी मदद करता है। इस साबुन की रिपोर्ट की गई टीएफएम वैल्यू 76% है।

पार्क एवेन्यू(Park avenue)

यह हमेशा के लिए  बॉडी केयर इंडस्ट्रीज द्वारा निर्मित है। यह एक सुगंधित साबुन है जिसमें शिया बटर होता है। यह आपकी त्वचा को साफ करता है, पोषण देता है, ठीक करता है, फिर से हाइड्रेट करता है और आपकी त्वचा को मुलायम बनाता है। इस साबुन की रिपोर्ट की गई टीएफएम वैल्यू 76% है।

गोदरेज नंबर 1(Godrej No. 1)

यह साबुन गोदरेज कंस्यूमर प्रोडक्ट्स द्वारा निर्मित है। यह साबुन हल्दी, चंदन और प्राकृतिक तेलों जैसे नेचुरल इंग्रेडिएंट्स  से बना है। यह आपकी त्वचा को पोषण (nourishment)प्रदान करता है और आपकी त्वचा को चिकना और सुंदर दिखने में मदद करता है। इस साबुन की रिपोर्ट की गई टीएफएम वैल्यू 76% है।

कंस्यूमर अफेयर्स द्वारा टेस्ट  किए गए सोप पैरामीटर(Soap parameters tested by consumer affairs)

कंस्यूमर अफेयर्स द्वारा इन ग्रेड I साबुन के विभिन्न पैरामीटर्स का टेस्ट किया गया। कंस्यूमर अफेयर्स द्वारा दर्शाए गए इन पैरामीटर्स की वैल्यू नीचे दी गई तालिका में दिया गया है।

ब्रांड  कंस्यूमर अफेयर्स  

कंस्यूमर अफेयर्स  द्वारा प्राप्त टीएफएम

    द्वारा`

मॉइस्चर 

(Moisture)

टेस्ट  किए

लेदर(lather)  

गए पैरामीटर

अघुलनशील  पदार्थ

(Insoluble matter)

   क्लोराइड 

(Chloride )

कुल स्कोर (100 में से)
मैसूर संदल 80.67% 6.33% 10.0 ml 4.74% 4.93% 87
सिंथोल 80.15% 5.13% 8.42 ml 4.75% 4.69% 83
सुपीरिया सिल्क 76.21% 7.0% 8.42 ml 4.71% 4.13% 82
गोदरेज फेयर ग्लो 76.07% 5.96% 8.68 ml 4.75% 4.61% 78
पार्क एवेन्यू 76.17% 5.46% 9.21 ml 4.77% 4.63% 77
गोदरेज नंबर 1 76.15% 4.48% 7.89 ml 4.74% 3.94% 77

निष्कर्ष (conclusion)

एक सही साबुन का उपयोग न केवल चमक और हाइड्रेशन के कारण हमारी त्वचा के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है बल्कि इसे हानिकारक पर्यावरण प्रदूषकों से भी बचाता है। अब जब आप जानते हैं कि साबुन की क्वालिटी उसके टीएफएम वैल्यू से निर्धारित होती है जो आपके साबुन के कवर के पीछे उपलब्ध है, तो अगली बार जब आप साबुन खरीदते हैं तो लेबल की जांच करना सुनिश्चित करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)(Frequently Asked Questions (FAQs))

1.ग्रेड I vs. ग्रेड II साबुन क्या हैं?

ग्रेड I साबुन का टीएफएम वैल्यू 76% से अधिक होती  है जबकि ग्रेड II साबुन का टीएफएम वैल्यू 70% से अधिक और 76% से कम होती है।

2. ग्रेड II साबुन कौन से हैं?

भारत में वर्तमान में उपलब्ध ग्रेड II साबुन के उदाहरणों में मार्गो(margo),विवेल(vivel) और लक्स( lux)शामिल हैं।

3. साबुन कितने प्रकार के होते हैं?

साबुन दो प्रकार के होते हैं: कपड़े धोने के साबुन और टॉयलेट साबुन। कपड़े धोने के साबुन टार या पेट्रोलियम से बने होते हैं और इनकी टीएफएम वैल्यू कम होती  है जबकि टॉयलेट साबुन फैटी एसिड या वेजिटेबल ऑयल्स से बने होते हैं और इनका टीएफएम वैल्यू अधिक होती है।

Share

Prekshi Garg is a young, dynamic, energetic, and meritorious professional biotechnologist. She is a merit rank holder in her post-graduation and a skilled bioinformatician with great zeal to do her best in neurosciences. She is currently working in the area of Neurotranscritomics dealing with neurodevelopmental and neurodegenerative disorders. She has presented many papers at different scientific forums and is awarded ‘Representing the Institution in Scientific Events’ citation by Amity University Uttar Pradesh and Top position in Student Assistantship Program held at Amity University in addition to awards won for oral presentations in different scientific deliberations. Prekshi has published a good number of papers and book chapters during the start of her academic career itself. Her tremendous skills and knowledge make her a good blend of biotechnology and bioinformatics.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Free Call back from our health advisor instantly