Urine Colour chart: What's the normal urine colour?

मूत्र के भौतिक गुण (physical properties) कुछ ऐसे हैं जिनसे हम शायद ही कभी चिंतित होते हैं। लेकिन रंग (colour), स्थिरता (consistency) और गंध (odour) जैसे ये पैरामीटर आपकी जीवनशैली, भलाई (well being) और समग्र स्वास्थ्य (overall health) के महत्वपूर्ण संकेतक हो सकते हैं।

मुख्य रूप से पानी होने के अलावा, मूत्र, सोडियम (sodium), क्रिएटिनिन (creatinine), पोटेशियम (potassium), क्लोराइड (chloride), घुलित आयनों (dissolved ions), कार्बनिक (organic) और अकार्बनिक यौगिकों (inorganic compounds) जैसे अवयवों का एक कॉकटेल (cocktail) है।

मूत्र के सामान्य घटकों (constituents) में किसी भी प्रकार के परिवर्तन से मूत्र के रंग (colour) और गंध (odour) में परिवर्तन हो सकता है। यदि मूत्र में कोई असामान्य घटक (abnormal constituent) मौजूद है, तो यह किसी अंतर्निहित (underlying) स्वास्थ्य विकार का संकेत हो सकता है। इसलिए, यदि आप एक लंबे समय से असामान्य मूत्र (abnormal urine) रंग देख रहे है तो आपको चिकित्सक से परामर्श करने की आवश्यता है।

यहां हम सामान्य मूत्र (normal urine) के रंग के बारे में सभी तथ्यों को स्पष्ट करेंगे, मूत्र का रंग पीला क्यों होता है, मूत्र के विभिन्न रंग क्या हो सकते हैं और मूत्र में उन रंगों के प्रकट होने के क्या कारण हैं।

कौन से रंग के पेशाब को सामान्य माना जाता है? (What color urine is considered normal?)

आपके पेशाब का रंग आपके स्वास्थ्य की स्थिति का एक आसान और शुरुआती संकेत है। मूत्र आपके शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स (electrolytes), अपशिष्ट (waste) और पानी का मिश्रण है जिसे गुर्दे (kidney) में फ़िल्टर किया जाता है। यह मूत्र को उसका विशिष्ट रंग देता है, इस प्रकार, मूत्र के रंग में कोई भी उतार-चढ़ाव स्वास्थ्य संबंधी चिंता का संकेत देता है।

आदर्श रूप से, मूत्र में यूरोक्रोम (urochrome) के रूप में जाना जाने वाले पीले रंग के रंगद्रव्य (yellow pigment) की उपस्थिति के कारण मूत्र का रंग स्पष्ट से हल्का पीला होता है। हीमोग्लोबिन (haemoglobin) को तोड़कर यूरोक्रोम वर्णक (Urochrome pigment) बनता है। 

आपके पेशाब का पीलापन इस बात पर निर्भर करता है कि आपका शरीर कितना हाइड्रेटेड (hydrated) है। बेहतर हाइड्रेशन (hydration) से पेशाब साफ हो जाएगा। यदि आप विटामिन बी से भरपूर आहार लेते हैं तो आपका मूत्र नीयन पीले रंग (neon yellow-coloured) का दिखाई दे सकता है।

आपके मूत्र का रंग क्या दर्शाता है? (What does the Urine Colour Indicate?)

एक स्वस्थ व्यक्ति में पेशाब का रंग आमतौर पर पीला होता है, लेकिन अगर आपके आहार या स्वास्थ्य (diet or health conditions) की स्थिति में कोई बदलाव होता है तो यह भिन्न हो सकता है। आपके शरीर में पानी की मात्रा और आपके द्वारा खाए जाने वाले भोजन से भी आपके पेशाब का रंग बदल जाता है। पेशाब का अलग-अलग रंग किसी न किसी स्वास्थ्य स्थिति की ओर इशारा करता है।

#1. साफ़ पेशाब (Clear urine)

साफ पेशाब (Clear urine) का होना यह दर्शाता है कि आपके द्वारा पानी का सेवन आवश्यक मात्रा से अधिक है जिसमें यूरोक्रोम वर्णक (urochrome pigment) पतला है। हाइड्रेटेड (hydrated) रहना जरूरी है, लेकिन बड़ी मात्रा में पानी का सेवन वास्तव में आपके शरीर में इलेक्ट्रोलाइट्स (electrolytes) की कमी का कारण बन सकता है।

एक स्पष्ट मूत्र (clear urine) भी लिवर (liver) के मुद्दों जैसे वायरल हेपेटाइटिस (viral hepatitis) और सिरोसिस (cirrhosis) का संकेत हो सकता है।

इसलिए, अगर आपको लगता है कि आप ज्यादा पानी नहीं पी रहे हैं, लेकिन फिर भी लंबे समय तक पेशाब साफ रहता है, तो आपको एक बार अपने चिकित्सक से सलाह लेनी चाहिए।

#2. लाल या गुलाबी मूत्र (Red or pink urine)

आपके मूत्र के लाल या गुलाबी रंग का दिखाई देने के कई कारण हो सकते हैं:

प्राकृतिक रूप से गहरे गुलाबी या मैजेंटा रंग वाले फलों का सेवन, उदाहरण के लिए, रूबर्ब (rhubarb), बीट्स (beets) और ब्लूबेरी (blueberries)।

लाल रंग का मूत्र भी हेमट्यूरिया (hematuria) नामक एक लक्षण को इंगित (indicates) करता है, जो गुर्दे की पथरी (kidney stones), बढ़े हुए प्रोस्टेट (enlarged prostate) और मूत्राशय या गुर्दे में ट्यूमर (tumours in the bladder or kidney) जैसी बीमारियों का संकेत हो सकता है।

रिफैम्पिन (rifampin), फेनाज़ोपाइरीडीन (phenazopyridine) और सेन्ना (senna) जैसी कुछ दवाएं भी लाल या गुलाबी रंग के मूत्र का कारण बन सकती हैं।

#3. नारंगी मूत्र (Orange urine)

नारंगी रंग के मूत्र से संकेतित विभिन्न स्वास्थ्य स्थितियां हो सकती हैं:

  • निर्जलीकरण (Dehydration)
  • पित्त नली (bile duct) या लिवर (liver) के साथ समस्याएँ पित्त (bile) को रक्तप्रवाह (bloodstream) में लीक कर सकती हैं जिससे मूत्र का रंग नारंगी हो सकता है।
  • वयस्क-शुरुआत पीलिया (Adult-onset jaundice)
  • सल्फासालजीन (sulfasalazine) और पाइरिडियम (pyridium) जैसी कुछ दवाएं भी पेशाब को नारंगी रंग दे सकती हैं
  • कीमोथेरेपी (chemotherapy) दवाएं जो कैंसर के मरीजों को दी जाती हैं यह भी आपके पेशाब के रंग को नारंगी रंग दे सकती है।

#4. नीला या हरा मूत्र (Blue or green urine)

नीले या हरे रंग का मूत्र आमतौर पर दुर्लभ होता है लेकिन फिर भी यह कई कारणों से हो सकता है जैसे

  • ऐसे भोजन का सेवन जिसमें मेथिलीन ब्लू (methylene blue) जैसे रंग देने वाले तत्व (agents) हों
  • एमिट्रिप्टिलाइन (amitriptyline), सिमेटिडाइन (cimetidine), प्रोमेथाज़िन (promethazine), इंडोमेथेसिन (indomethacin) और विटामिन बी सप्लीमेंट (vitamin B supplements) जैसी दवाएं।
  • गुर्दे और मूत्राशय (kidneys and urinary bladder) के स्वास्थ्य का मूल्यांकन करने के लिए किए गए चिकित्सा परीक्षणों के दौरान उपयोग किए जाने वाले रंग।
  • स्यूडोमोनास एरुगिनोसा (Pseudomonas aeruginosa) का जीवाणु संक्रमण (Bacterial infection)
  • पारिवारिक सौम्य हाइपरलकसीमिया (Familial benign hypercalcemia)

#5. गहरा भूरा मूत्र (Dark brown urine)

पेशाब का गहरा भूरा (Dark brown urine) रंग कई कारणों से भी हो सकता है जिनमें शामिल हैं

  • निर्जलीकरण (Dehydration)
  • क्लोरोक्वीन (chloroquine), नाइट्रोफ्यूरेंटोइन (nitrofurantoin), मेट्रोनिडाजोल (metronidazole), सेन्ना (senna) आधारित जुलाब (laxatives), काजल (cascara) और मेथोकार्बामोल (methocarbamol) जैसी दवाओं के दुष्प्रभाव।
  • एलो (aloe), रूबर्ब (rhubarb) और फवा बीन्स (fava beans) जैसे खाद्य पदार्थ (Food items)
  • पोर्फिरीया (porphyria) के कारण आपके रक्तप्रवाह (bloodstream) में प्राकृतिक रसायनों (natural chemicals) का संचय (accumulation)
  • जिगर की बीमारी (Liver disease) जिसके कारण पित्त (bile) आपके मूत्र में प्रवेश कर सकता है और इसे गहरा भूरा रंग दे सकता है
  • तीव्र शारीरिक व्यायाम जैसे दौड़ना (Intense physical exercise like running)

#6. धूमिल  मूत्र (Cloudy urine)

आपका मूत्र कभी-कभी थोड़ा धूमिल (Cloudy) दिखाई दे सकता है। धूमिल  मूत्र (Cloudy urine) का प्रकट होना विभिन्न कारणों से हो सकता है जैसे

  • मूत्र पथ के संक्रमण (Urinary tract infection)
  • स्थायी बीमारी (Chronic disease)
  • गुर्दा विकार (Kidney disorders)
  • निर्जलीकरण (Dehydration)
  • प्रीक्लेम्पसिया (Preeclampsia) (यह एक खतरनाक स्थिति है जो गर्भवती महिलाओं में हो सकती है)
  • न्यूमट्यूरिया (Pneumaturia) (यह बुलबुले या झाग के साथ धूमिल मूत्र की विशेषता है)
  • क्रोहन रोग (Crohn’s disease)
  • विपुटीशोथ (Diverticulitis)

मूत्र का रंग चार्ट: एक सारांश (Urine colour chart: A summary)

अब तक तो आप समझ ही गए होंगे कि आपके पेशाब का रंग आपकी सेहत के बारे में बहुत कुछ बताता है। इसलिए, यहां हमने मूत्र रंग चार्ट (Urine colour chart) को सारणीबद्ध किया है जो अब तक मूत्र के रंग के बारे में चर्चा की गई सभी चीजों का सारांश देता है।

      क्र.सं       मूत्र का रंग (Urine Colour)   चिकित्सा कारण (Disease symptoms)
                1.       साफ़ (Clear) बहुत ज्यादा पानी पीने के वजह से हो रहे हैं।
                2.     पीला या एम्बर (Yellowish or amber)   स्वस्थ व्यक्ति
                3.   लाल या गुलाबी मूत्र (Red or pink urine)   मूत्र में रक्त (blood) की उपस्थिति (presence)
                4.         नारंगी (orange) पित्त नली (bile duct) के साथ संभावित समस्याएं
                5.   नीला या हरा (blue or green) जीवाणु संक्रमण
                6.     गहरा भूरा (dark brown) जिगर (liver) की बीमारी
                7.       धूमिल (cloudy) मूत्र पथ संक्रमण (यूटीआई), पुरानी बीमारी या गुर्दे से संबंधित समस्याएं

किस में असामान्य रंग के मूत्र  होने की संभावना ज्यादा होता है? (Who is more likely to have abnormal colored urine?)

कभी-कभी लोग असामान्य मूत्र (abnormal urine) रंग देखते हैं, हालांकि वे कोई दवा नहीं लेते हैं या किसी भी स्वास्थ्य स्थिति का निदान (diagnosed) नहीं करते हैं जो मूत्र को विशिष्ट रंग दे सकते हैं।

ऐसे लोगों का एक निश्चित समूह (certain group) है, जिन्हें चिकित्सीय स्थितियों (medical conditions) से निदान (diagnosed) होने का उच्च जोखिम होता है, जिससे मूत्र के रंग में परिवर्तन हो सकता है। असामान्य मूत्र रंग के उच्च जोखिम (higher risk) वाले लोगों में शामिल हैं:

  • पारिवारिक इतिहास (Family history)– यदि आपके परिवार में गुर्दे की बीमारी या पथरी जैसी गुर्दा (kidney) संबंधी समस्याएं हैं, तो भी आपको गुर्दे से संबंधित समस्याएं होने का खतरा है जिससे मूत्र के रंग में परिवर्तन हो सकता है।
  • उम्र (Age)- बुजुर्ग लोगों में खून की उपस्थिति की संभावना तुलनात्मक रूप से अधिक होती है, इसलिए बुजुर्ग लोगों में लाल रंग का पेशाब अधिक होता है। मूत्र में रक्त विभिन्न चिकित्सीय स्थितियों के कारण प्रकट हो सकता है जो बुजुर्गों में आम हैं, जिनमें बढ़े हुए प्रोस्टेट ग्रंथि (enlarged prostate gland), गुर्दे (kidney) और मूत्राशय के ट्यूमर (bladder tumors) शामिल हैं।
  • ज़ोरदार व्यायाम (Strenuous exercise)– वे लोग जो व्यापक व्यायाम करते हैं या अधिक दूरी तक दौड़ते हैं, उनमें मूत्र से रक्तस्राव (bleeding) होने की संभावना अधिक होती है।

निष्कर्ष (Takeaway)

आपके पेशाब का रंग आपके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में बहुत कुछ बता सकता है। इसलिए, हमेशा यह सलाह दी जाती है कि यदि आप समय के साथ अपने मूत्र के रंग (urine colour) में बदलाव देखते हैं तो आप अपने चिकित्सक से परामर्श (consult) लें। मूत्र के रंग में परिवर्तन हमेशा एक गंभीर स्वास्थ्य जटिलता का संकेत नहीं देता है, लेकिन यह आपके आहार और पानी के सेवन पर ध्यान देने का एक संकेतक हो सकता है। अब, जब आप एक विशिष्ट मूत्र रंग का कारण जानते हैं, तो आप अपनी स्थिति का बेहतर मूल्यांकन (evaluate) करने में सक्षम होंगे।

एफएक्यू (FAQs)

#1. क्या पेशाब में खून आना पानी की कमी की वजह से हो सकता है? (Can blood in urine be due to lack of water?)

नहीं, पेशाब का लाल रंग डिहाइड्रेशन (dehydration) का संकेत नहीं है। हालाँकि, ऐसा इसलिए हो सकता है क्योंकि आपने ऐसा भोजन किया है जिसमें लाल रंगद्रव्य (red pigment) होता है, या मूत्र में रक्त (blood) की उपस्थिति के कारण होता हैं।

#2. क्या पेशाब में खून आना एक गंभीर समस्या है? (Is blood in urine a serious problem?)

मूत्र में रक्त (blood) की उपस्थिति बढ़े हुए प्रोस्टेट ग्रंथि (prostate gland), गुर्दे की पथरी (kidney stones) या मूत्राशय के ट्यूमर (tumour of the urinary bladder) जैसी स्वास्थ्य समस्याओं का संकेत है। अतः तुरंत ही अपने  चिकित्सक से परामर्श ले।

#3. कौन से खाद्य पदार्थ आपके पेशाब को लाल कर सकते हैं? (Which foods can turn your urine red?)

ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें लाल रंग (red pigments) के रंग होते हैं जैसे ब्लूबेरी (blueberries), बीट्स (beets) और रूबर्ब (rhubarb)।  ये ऐसे आहार है जो आपके मूत्र को लाल कर सकते हैं।

Ms. Srujana is Managing Editor of Cogito137, one of India’s leading student-run science communication magazines. I have been working in scientific and medical writing and editing since 2018. I am also associated with the quality assurance team of scientific journal editing. I am majoring in Chemistry with a minor in Biology at IISER Kolkata.

Leave a Reply

Your email address will not be published.