ecg-test-hear-test

पल्स रेट और हार्ट रेट दो ऐसे शब्द हैं जिन्हें अक्सर एक ही माना जाता है। लेकिन क्या वे वास्तव में समान हैं? इस आर्टिकल में हम पल्स रेट के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे। एक मिनट में आपके दिल की धड़कन की संख्या को पल्स रेट कहते हैं, यानी इसे बीट्स प्रति मिनट (बीपीएम) में मापा जाता है। अलग-अलग लोगों की नार्मल पल्स रेट उनकी उम्र और जीवनशैली के आधार पर अलग-अलग होती है। विभिन्न आयु वर्ग के पुरुषों, महिलाओं और बच्चों में पल्स रेट की नार्मल रेंज और हार्ट रेट और पल्स  रेट के बीच प्रमुख अंतर जानने के लिए आर्टिकल में विस्तार से चर्चा करेंगे।

नार्मल पल्स रेट (Normal Pulse Rate)

पल्स रेट एक महत्वपूर्ण पैरामीटर है जो महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जानकारी देता है। अध्ययनों के अनुसार, नार्मल एडल्ट  पल्स रेट 60 से 90 बीट प्रति मिनट (बीपीएम) के बीच होती है। अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन (एएचए)(American Heart Association (AHA)) के अनुसार सामान्य साइनस पल्स रेट 60 बीपीएम से 100 बीपीएम के बीच होती है। आपकी पल्स रेट आपकी उम्र, धूम्रपान की आदत, फिटनेस, हवा का तापमान, हृदय रोगों का इतिहास, भावनाओं की अभिव्यक्ति, दवाओं, शरीर के आकार और अनुपात(age, smoking habit, fitness, air temperature, history of cardiovascular diseases, expression of emotions, medicines, body size and proportion) जैसे कारकों से प्रभावित हो सकती है।

Healthy Heart Package

Offer Price:

₹1099₹2580
Book Your Test
  • Total no.of Tests - 59
  • Quick Turn Around Time
  • Reporting as per NABL ISO guidelines

पुरुषों में सामान्य पल्स रेट रेंज(Normal Pulse Rate Range In Men)

वयस्क पुरुषों और महिलाओं में सामान्य पल्स रेट अलग होती है। वयस्कों में पल्स रेट उम्र पर निर्भर करती है। आप आराम कर रहे हैं या व्यायाम कर रहे हैं, इसके आधार पर पल्स रेट भी भिन्न होती है। आराम करते समय पुरुषों में सामान्य पल्स रेट नीचे दी गई है:

क्र.सं.    आयु (वर्ष)(Age (years))    पल्स  रेट (बीपीएम)(Pulse Rate (bpm))
1.18 – 25 56 – 65
2.26 – 3555 – 65
3.36 – 4557 – 66
4.46 – 5558 – 67
5.56 – 6557 – 67
6.> 6556 – 65

महिलाओं में सामान्य पल्स रेट रेंज(Normal Pulse Rate Range In Women)

महिलाओं में पल्स रेट समान उम्र के पुरुषों की तुलना में लगभग 2 – 7 बीपीएम अधिक होती है। महिला स्वास्थ्य पहल(Women’s Health Initiative (WHI)) के अनुसार, उच्च पल्स रेट वाली महिलाओं को दिल के दौरे का खतरा अधिक होता है। विभिन्न उम्र में महिलाओं के लिए पल्स रेट की ऑप्टिमम रेंज नीचे सारणीबद्ध है:

क्र.सं.आयु (वर्ष)(Age (years))पल्स  रेट (बीपीएम)(Pulse Rate (bpm))
1.18 – 25 58 – 68
2.26 – 3557 – 68
3.36 – 4559 – 69
4.46 – 5560 –70
5.56 – 6559 – 70
6.> 6558– 68

गर्भवती होने पर महिलाओं में सामान्य पल्स रेट भिन्न होती है। गर्भावस्था के दौरान प्रत्येक तिमाही में पल्स रेट की सामान्य सीमा नीचे सारणीबद्ध है:

क्र.सं.त्रैमासिक (Trimester)पल्स रेट (बीपीएम)(Pulse Rate (bpm))
1.1st ट्रिमस्टर 63 – 105
2.2nd ट्रिमस्टर 67 – 112
3.3rd ट्रिमस्टर 64 – 113

बच्चों में सामान्य पल्स रेट रेंज(Normal Pulse Rate Range In Children)

चूंकि सामान्य पल्स रेट उम्र के साथ बदलती रहती है, इसलिए बच्चों की पल्स रेट वयस्कों की तुलना में भिन्न होती है। 6 से 15 वर्ष की आयु के बच्चों में औसत हार्ट रेट 70 बीपीएम से 100 बीपीएम तक होती है। जीवन के विभिन्न चरणों में बच्चों की पल्स रेट  नीचे सारणीबद्ध है:

क्र.सं.आयु (वर्ष)(Age (years))पल्स  रेट (बीपीएम)(Pulse Rate (bpm))
1.< 1 month70 – 190
2.1 – 11 months80 – 160
3.1 – 2 years80 – 130
4.3 – 4 years80 – 120
5.5 – 6 years75 – 115
6.7 – 9 years70 – 110
7.> 10 years60 – 100

पल्स रेट vs. हार्ट रेट(Pulse Rate vs Heart Rate)

पल्स रेट और हार्ट रेट दो अलग-अलग पैरामीटर हैं, हालांकि वे समान लग सकते हैं। आपकी हार्ट रेट हृदय की धड़कन को मापती है, जबकि पल्स रेट ब्लड  प्रेशर की दर को मापती है। हार्ट रेट से तात्पर्य है कि आपका हृदय प्रत्येक मिनट में कितनी बार धड़कता है, जबकि पल्स उस मोड में होती है जिसके माध्यम से आप अपने हृदय की प्रत्येक धड़कन को महसूस कर सकते हैं। चूंकि, दिल की धड़कन आपके शरीर के माध्यम से ब्लड को पंप करती है, यह ब्लड प्रेशर में बदलाव का कारण बनता है जो आर्टरीज में पल्स रेट उत्पन्न करता है। जब आप स्वस्थ होते हैं, तो आपकी हार्ट रेट आपकी पल्स रेट  के साथ  बैलेंस बनाती है। जिन लोगों को  हृदय संबंधी कुछ समस्याएं होती हैं, उनमें हार्ट रेट की तुलना में पल्स रेट कम होती है। मोटापा, धूम्रपान, शराब का सेवन, दवाएं और शरीर द्रव्यमान जैसे अन्य कारक हैं जो पल्स रेट को प्रभावित कर सकते हैं। समय के साथ हार्ट रेट में परिवर्तन का पता इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ईसीजी)(electrocardiogram (ECG)) द्वारा लगाया जाता है जबकि समय के साथ पल्स रेट  में परिवर्तन का पता फोटोप्लेथिसमोग्राफी (पीपीजी) (photoplethysmography (PPG))द्वारा लगाया जाता है।

निष्कर्ष ( Conclusion) 

हर चार में से एक मौत आमतौर पर अनियमित हार्ट रेट के कारण होती है। इसलिए, पल्स रेट एक बहुत ही महत्वपूर्ण कारक है जो आपकी स्वास्थ्य स्थिति के बारे में बहुत कुछ दर्शाता है। अब जब आप विभिन्न आयु समूहों में पुरुषों, महिलाओं और बच्चों में पल्स रेट की ऑप्टिमम रेंज के बारे में जानते हैं, तो आप अपनी पल्स रेट की बेहतर निगरानी कर सकते हैं और उचित उपाय करके इसे मैनेज भी कर सकते हैं।

 अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)(Frequently Asked Questions (FAQs))

1.मैं अपनी पल्स रेट कैसे माप सकता हूं?

आप अपनी पल्स को अपनी कलाई, कोहनी के टेढ़े-मेढ़े, पैर के ऊपरी हिस्से और अपनी गर्दन के किनारे पर भी महसूस करके अपनी पल्स रेट को माप सकते हैं। धीरे से अपनी नब्ज को महसूस करें और एक मिनट में महसूस होने वाली धड़कनों की संख्या गिनें। आप 15 सेकंड में धड़कनों की संख्या भी गिन सकते हैं और फिर अपनी पल्स रेट प्राप्त करने के लिए इसे 4 से गुणा कर सकते हैं।

2.मैं अपनी हार्ट रेट कैसे कम कर सकता हूं?

नियमित व्यायाम, उचित आहार, तनाव कम करने और धूम्रपान बंद करने जैसे सरल जीवनशैली संशोधनों का पालन करने से आपको अपनी हार्ट रेट को काफी कम करने में मदद मिल सकती है।

3.मेरे लिए अधिकतम हार्ट रेट क्या होगी?

अधिकतम हार्ट रेट = 220 – आपकी आयु वर्षों में( your age in years)

4.क्या होता है जब पल्स रेट कम हो जाती है?

कम पल्स रेट, यानी 60 बीपीएम से कम, एक ऐसी स्थिति को  इंडिकेट्स  करता है जिसे ब्रैडीकार्डिया (bradycardia) कहा जाता है। यह स्थिति या तो साइनस नोड की विफलता(failure) के कारण या हृदय की रुकावट के कारण हो सकती है।

5.पल्स रेट बढ़ने पर क्या होता है?

पल्स रेट में वृद्धि, यानी 100 बीपीएम से ऊपर, टैचीकार्डिया (tachycardia)को इंडिकेट्स करता है जो अधिक ब्लड  प्रेशर , हाइपरथायरायडिज्म, पुअर ब्लड सप्लाई  , इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन, तनाव और शराब (high blood pressure, hyperthyroidism, poor blood supply, electrolyte imbalance, stress, and alcohol consumption)के सेवन के कारण हो सकता है।

Share

Prekshi Garg is a young, dynamic, energetic, and meritorious professional biotechnologist. She is a merit rank holder in her post-graduation and a skilled bioinformatician with great zeal to do her best in neurosciences. She is currently working in the area of Neurotranscritomics dealing with neurodevelopmental and neurodegenerative disorders. She has presented many papers at different scientific forums and is awarded ‘Representing the Institution in Scientific Events’ citation by Amity University Uttar Pradesh and Top position in Student Assistantship Program held at Amity University in addition to awards won for oral presentations in different scientific deliberations. Prekshi has published a good number of papers and book chapters during the start of her academic career itself. Her tremendous skills and knowledge make her a good blend of biotechnology and bioinformatics.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Free Call back from our health advisor instantly