WBC Count: What is the normal range? How to increase WBC count naturally

वाइट  ब्लड  सैल्स (डब्ल्यूबीसी ), या ल्यूकोसाइट्स(leukocytes), हमारे शरीर की रक्षा तंत्र(defence mechanism) हैं। डब्ल्यूबीसी शरीर में इन्फेक्शन से लड़ने के लिए जिम्मेदार होते हैं।ऑप्टिमल कोर मेमोरी के साथ, डब्ल्यूबीसी किसी भी बाहरी कण (फॉरेन  पार्टिकल -foreign particle ) को ​​​​मार सकते हैं जो शरीर के लिए खतरा पैदा करते हैं, जिसमें बैक्टीरिया और वायरस शामिल हैं जो इन्फेक्शन  का कारण बन सकते हैं।

डब्ल्यूबीसी काउंट ब्लड में वाइट ब्लड सैल्स की संतृप्ति(saturation) को मापता है। ब्लड में इस घटक(component) का एनालिसिस एक कम्पलीट ब्लड काउंट (सीबीसी) टेस्ट के साथ किया जाता है।

ज्यादातर मामलों में,ब्लड में असामान्य डब्ल्यूबीसी लेवल शरीर में एक्टिव इन्फेक्शन का संकेत देते हैं। जबकि इन्फेक्शन के दौरान बड़ा हुआ डब्ल्यूबीसी लेवल सामान्य होता है, ब्लड में कम डब्ल्यूबीसी  शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया (body’s immune response)को नगण्य रूप से जोड़ सकता है।

इस आर्टिकल में डब्ल्यूबीसी काउंट, सामान्य श्रेणी और डब्ल्यूबीसी काउंट को स्वाभाविक रूप से बढ़ाने के तरीकों के बारे में बताया गया है।

डब्ल्यूबीसी  काउंट का क्या महत्व है?(What is the Significance of WBC Count?)

नियमित स्वास्थ्य जांच के दौरान सीबीसी टेस्ट करवाना बहुत आम है। हालांकि, यदि आप बुखार, दर्द, दस्त, थकान आदि जैसे लक्षणों के लिए डॉक्टर से परामर्श करते हैं, तो संभावना है कि आपका डॉक्टर आपको इन्फेक्शन के संदेह के कारण, ब्लड टेस्ट का सुझाव दे।

इन्फेक्शन की जांच का सबसे आसान तरीका ब्लड में डब्ल्यूबीसी के लेवल का विश्लेषण करना है। सिर्फ इन्फेक्शन ही नहीं, अधिक या असामान्य डब्ल्यूबीसी काउंट भी और भी संकेत कर सकता है:

  • ऑटोइम्यून डिसऑर्डर्स (Autoimmune disorders)
  • प्रतिरक्षा की कमी(Immune deficiencies)
  • ब्लड डिसऑर्डर्स (Blood disorders)।

कुछ उदाहरणों में, डब्ल्यूबीसी काउंट विकिरण या कीमोथेरेपी का उपयोग करके कैंसर के उपचार की प्रभावशीलता का एनालिसिस कर सकता है।

सामान्य डब्ल्यूबीसी  गणना क्या है?(What is the Normal WBC Count?)

ब्लड  में डब्ल्यूबीसी  की औसत संख्या आमतौर पर 4,000 और 11,000/माइक्रोलीटर के बीच होती है। हालाँकि, यह स्टैण्डर्ड  रेंज  है। पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के लिए लेवल अलग-अलग होंगे।

ब्लड  में ऑप्टीमल डब्ल्यूबीसी काउंट एक स्वस्थ और पूरी तरह से कार्य करने वाले इम्यून  सिस्टम  को इंडीकेट करता  है।

निम्नलिखित चार्ट में, महिलाओं, पुरुषों और बच्चों में डब्ल्यूबीसी  सामान्य श्रेणी पर चर्चा की गयी हैं ।

लिंग और आयु (Gender and Age)डब्ल्यूबीसी काउंट – सामान्य श्रेणी (WBC Count – Normal Range)
वयस्क महिला(Adult Female)4,500 से 11,000
वयस्क पुरुष (Adult Male)5,000 से 10,000
बच्चे (Children)5,000 से 10,000

इन रीडिंग्स के अलावा, गर्भावस्था के दौरान और 2 साल से कम उम्र के बच्चों में सीमा भिन्न हो सकती है।

वाइट ब्लड सैल्स अंतर क्या है?(What is White Blood Cell Differential?)

वाइट  ब्लड  सैल्स पांच तत्वों से बनी होती है – न्यूट्रोफिल, लिम्फोसाइट्स, ईोसिनोफिल, मोनोसाइट्स और बेसोफिल(neutrophils, lymphocytes, eosinophils, monocytes, and basophils)।

डब्ल्यूबीसी में प्रत्येक घटक के सामान्य प्रतिशत का विश्लेषण यहां दिया गया है:

डब्ल्यूबीसी में घटक(Component in WBC)सामान्य श्रेणी(Normal Range)
न्यूट्रोफिल55% से 70%
लिम्फोसाइट 20% से 40%
ईोसिनोफिल1% से 4%
मोनोसाइट2% से 8%
बेसोफिल 0.5% से 1%

कोई भी अज्ञात बीमारी(undiagnosed disease) या कोई अंतर्निहित इन्फेक्शन (underlying infection) ब्लड स्ट्रीम में डब्ल्यूबीसी  के स्तर को कम या बढ़ा सकता है।

डब्ल्यूबीसी  काउंट – उच्च और निम्न डब्ल्यूबीसी  स्तरों के कारण(WBC Count – Causes of High and Low WBC Levels)

डब्ल्यूबीसी  की सामान्य सीमा 4,000 और 11,000/माइक्रोलीटर के बीच होती है।

ऊपर या नीचे कोई भी स्तर के लिए मेडिकल इंटरवेंशन की आवश्यकता होती है।

कम डब्ल्यूबीसी  काउंट(Low WBC Count)

चिकित्सकीय रूप से इसे ल्यूकोपेनिया (Leukopenia) कहा जाता है; कम डब्ल्यूबीसी काउंट वह है जब रेंज  4000/माइक्रोलीटर से कम है। कुछ सामान्य कारणों में शामिल हैं:

  • ऑटोइम्यून डिसऑर्डर्स (Autoimmune disorders)
  • एचआईवी/एड्स(HIV/AIDS)
  • लिंफोमा(Lymphoma)
  • संक्रमण(Infections)
  • लुपस (Lupus)
  • रेडिएशन  थेरेपी (Radiation therapy)
  • स्प्लीन  डिसऑर्डर्स( Spleen disorders)
  • शराब(Alcoholism)
  • मलेरिया(Malaria)

कम डब्ल्यूबीसी  वाले रोगियों में, न्यूट्रोफिल के अत्यधिक निम्न स्तर को न्यूट्रोपेनिया(neutropenia) के रूप में जाना जाता है। जिन लोगों के ब्लड स्ट्रीम में न्यूट्रोफिल की मात्रा कम होती है, उनमें इन्फेक्शन की आशंका अधिक होती है। आपका डॉक्टर मास्क आदि पहनकर सार्वजनिक रूप से सावधानी बरतने की सलाह देगा।

उच्च डब्ल्यूबीसी  काउंट(High WBC Count)

ल्यूकोसाइटोसिस (leukocytosis) तब होता है जब किसी व्यक्ति की डब्ल्यूबीसी गिनती बढ़ जाती है, आमतौर पर 10000/माइक्रोलीटर से ऊपर। इसके पीछे कुछ सामान्य ट्रिगर हैं:

  • ट्यूबरक्लोसिस (Tuberculosis)
  • सेप्सिस (Sepsis)
  • बुखार(Fever)
  • एलर्जी(Allergies)
  • गर्भावस्था(Pregnancy)
  • दमा(Asthma)
  • तनाव(Stress)
  • टिश्यू  डैमेज (Tissue damage)
  • टीकाकरण(Vaccination)
  • हेमरेज (Hemorrhage)
  • दिल का दौरा(Heart attack)
  • शल्य चिकित्सा के बाद की जटिलताएं(Post-surgical complications)

धूम्रपान और शराब सहित खराब जीवनशैली विकल्पों और आदतों के कारण भी डब्ल्यूबीसी  की गिनती बढ़ जाती है।

असामान्य डब्ल्यूबीसी  गणना के कुछ लक्षण क्या हैं?(What are some Symptoms of Abnormal WBC Count?)

बहुत से स्टैंडअलोन लक्षण कम या ऊंचे डब्ल्यूबीसी  गिनती का संकेत नहीं देते हैं। हालांकि, चूंकि ल्यूकोसाइट्स का स्तर किसी मेडिकल कंडीशन  के कारण असामान्य हो जाता है, इसलिए आपको निम्न लक्षणों का अनुभव हो सकता है:

  • बुखार(Fever)
  • शरीर मैं दर्द(Body aches)
  • सर्द(Chill)
  • सिर दर्द(Headaches)
  • थकान(Fatigue)
  • जी मिचलाना(Nausea)
  • उल्टी(Vomiting)
  • पेट में दर्द(Abdominal pain)

इनमें से कोई भी लक्षण तत्काल डॉक्टर के परामर्श का संकेत देता है। संभावित जोखिमों को दूर करने के लिए आगे टेस्ट करना महत्वपूर्ण है।

डब्ल्यूबीसी  के स्तर को स्वाभाविक रूप से कैसे बढ़ाएं?(How to Increase WBC Levels Naturally?)

वाइट  ब्लड  सैल्स  शरीर के कई कार्यों के लिए जिम्मेदार होती हैं। तो, किसी भी चीज़ से ऊपर, शरीर में स्वस्थ स्तर बनाए रखना आवश्यक है। यदि आपका डब्ल्यूबीसी  स्तर क्रॉनिकल रूप से कम है, तो जीवनशैली और आहार में परिवर्तन लगातार मदद कर सकते हैं।

ब्लड  में स्वाभाविक रूप से डब्ल्यूबीसी  की संख्या बढ़ाने के कुछ तरीके निम्नलिखित हैं।

1. लहसुन का सेवन करें( Consume Garlic)

लहसुन मैं एलिसिन (allicin) नाम का एक सक्रिय पदार्थ होता है जो इम्यूनोमॉड्यूलेटरी कार्य ( immunomodulatory functions) करता हैं। यदि आपका डब्ल्यूबीसी  काउंट कम है, तो लहसुन का सेवन शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को नियंत्रित कर सकता है, जिससे ईोसिनोफिल (eosinophils) और लिम्फोसाइट्स(lymphocytes)  के स्तर में काफी वृद्धि होती है।

एलिसिन(Allicin) में एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण भी होते हैं, जो शरीर में सूजन के जोखिम को कम करते हैं, प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को और बेहतर बनाते हैं।

इम्युनिटी के लिए लहसुन का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका है कि इसे खाने में शामिल किया जाए। आप शक्तिशाली परिणामों के लिए एक या दो कच्ची लौंग और लहसुन भी चबा सकते हैं।

2. खट्टे फलों का सेवन करें(Consume Citrus Fruits)

अधिकांश खट्टे फल जैसे नींबू, अंगूर, चूना, संतरा आदि विटामिन सी से भरे होते हैं। अध्ययनों से साबित होता है कि शरीर में विटामिन सी वाइट ब्लड सैल्स के उत्पादन को काफी बढ़ावा देता है।

खट्टे फलों में विटामिन सी में एंटीऑक्सीडेंट गुण (antioxidant) भी होते हैं जो मुक्त कणों (free radicals) से होने वाले नुकसान के जोखिम को कम करते हैं और प्रतिरक्षा स्वास्थ्य को नियंत्रित करते हैं।

हम सप्लीमेंट्स पर 100% निर्भर होने के बजाय प्राकृतिक फलों के स्रोतों से विटामिन सी का सेवन करने की सलाह देंगे। महिलाओं और पुरुषों के लिए दैनिक अनुशंसित मात्रा ( daily recommended amount) 75mg और 90mg है।

3. ब्रोकोली का सेवन करें(Consume Broccoli)

हालांकि ब्रोकली को सार्वजनिक पसंद नहीं माना जाता पर ब्रोकली में कई पोषक तत्व होते है। वे महत्वपूर्ण विटामिन और मिनरल्स से समृद्ध हैं, जो सभी लोगों के समग्र प्रतिरक्षा स्वास्थ्य का समर्थन करते हैं।

एक कप उबली हुई ब्रोकली में विटामिन ए, सी और ई का उच्च स्तर होता है, जो प्रतिरक्षा स्वास्थ्य का समर्थन करता है और ब्लड  में डब्ल्यूबीसी के स्तर को बढ़ाता है।

इसके अलावा, लंबे समय तक पकाए जाने पर ब्रोकली अपने सभी पोषक तत्वों को खो देती है। तो, सभी पौष्टिक लाभ प्राप्त करने के लिए त्वरित भाप या सेंकना पर्याप्त है।

4. अदरक का सेवन करें(Consume Ginger)

लहसुन की तरह, अदरक में भी इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रॉपर्टीज(immunomodulatory functions) होती हैं। यह सर्दी और खांसी के लक्षणों और शरीर में सूजन से राहत पाने के लिए एक मैजिक सप्लीमेंट  है।

यदि किसी अंतर्निहित इन्फेक्शन के(underlying infection)कारण आपका डब्ल्यूबीसी  काउंट कम है, तो भोजन में अदरक की चाय या कच्ची अदरक का सेवन उन चिंताओं को अच्छी तरह से दूर कर सकता है।

अदरक, जिंजरोल में एक्टिव  कंपाउंड  में थर्मोजेनिक गुण( thermogenic properties) होते हैं, जो डब्ल्यूबीसी के स्तर को बढ़ाकर शरीर में प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को समर्थन और बढ़ावा देते हैं।

अध्ययनों से पता चलता है कि  प्री-क्लीनिकल ट्रायल्स (preclinical trials)  में अदरक के कुछ ऑटोइम्यून रोगों का मुकाबला करने में आशाजनक लाभ हैं।

5. पालक का सेवन करें(Consume Spinach)

हैरानी की बात है कि पालक खाने से आपके ब्लड  में डब्ल्यूबीसी  की संख्या बढ़ सकती है। पालक विटामिन सी, बीटा-कैरोटीन जैसे पोषक तत्वों और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, जो हेल्थ इम्यून का समर्थन करता है और इन्फेक्शन की घटनाओं को कम करता है।

विटामिन ए और ऑक्सालिक एसिड (vitamin-A and oxalic acid) भी प्रतिरक्षा में मदद करते हैं और ब्लड स्ट्रीम में वाइट ब्लड सैल्स  के उत्पादन को बढ़ावा देते हैं।

हालांकि, ब्रोकली की तरह, अगर आप इसे लंबे समय तक पकाते हैं तो पालक भी अपना पोषण मूल्य खो देता है। तो, या तो इसे स्मूदी में कच्चा खाएं या महत्वपूर्ण पोषक तत्वों को बनाए रखने के लिए इसे गर्म पानी में ब्लांच करें।

6. बादाम(Almonds)

ब्लड में वाइट ब्लड सैल्स को बेहतर बनाने में मेवे और बीज का प्रमुख प्रभाव होता है। बादाम विशेष रूप से विटामिन सी और ई (vitamin C and E) से भरे होते हैं, जिनमें एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं।

ब्लड  में एक संतुलित एंटीऑक्सीडेंट स्तर समग्र कल्याण(overall well-being)  और प्रतिरक्षा स्वास्थ्य(immune health) को दर्शाता है।

विटामिन के अलावा, बादाम में हेल्थी फैट्स की एक समृद्ध मात्रा भी होती है, जो समग्र स्वास्थ्य (overall health)और शरीर के कार्यों को विनियमित (regulate)और अनुकूलित(optimize) करती है।

7. हल्दी का सेवन करें(Consume Turmeric)

अधिकांश एशियाई घरों में एक सर्वोत्कृष्ट प्रधान(quintessential staple), हल्दी के स्वास्थ्य के लिए बहुत सारे लाभ हैं।

हल्दी के एंटीसेप्टिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण शरीर में सामान्य ऑटोइम्यून डिसऑर्डर्स से जुड़े लक्षणों को कम करते हैं। इन स्थितियों को नियंत्रित करने से अनजाने में ब्लड  में डब्ल्यूबीसी  का स्तर भी बढ़ जाता है।

अध्ययनों से संकेत मिलता है कि हल्दी में एक्टिव  कंपाउंड करक्यूमिन (curcumin) , टिश्यू डैमेज  को रोकता है और मांसपेशियों की रिकवरी  को बढ़ावा देता है। प्रीक्लीनिकल  ​​​​टेस्ट भी हल्दी में करक्यूमिन के इम्युनिटी -बढ़ाने वाले गुणों को साबित करते हैं।

8. ग्रीन टी का सेवन करें(Consume Green Tea)

एंटीऑक्सिडेंट का एक पावरहाउस; ग्रीन टी विभिन्न पॉलीफेनोल्स (polyphenols)और फ्लेवोनोइड्स (flavonoids) से समृद्ध होती है, जो सभी इम्यून हेल्थ का समर्थन करते हैं।

यदि आपको कम डब्लूबीसी गिनती का डायग्नोसिस किया जाता है, तो आहार में ग्रीन टी सहित इम्युनिटी  को अनुकूलित कर सकते हैं, ऑक्सीडेटिव डैमेज को रोक सकते हैं और शरीर में टी-सैल्स की कार्यक्षमता को बढ़ावा दे सकते हैं।

9. अस्वस्थ आदतें छोड़ें(Quit Unhealthy Habits)

कमजोर  इम्यून  हेल्थ के सबसे आम ट्रिगर्स में से एक खराब जीवन विकल्प (life choices)और आदतें हैं। धूम्रपान और अत्यधिक शराब के सेवन से टिश्यू  डैमेज होते है, प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया बदल जाती है और  इंटरनल ऑर्गन  फंक्शन प्रभावित होता है।

इसलिए, यदि आप शरीर में अपने डब्ल्यूबीसी  काउंट को बेहतर बनाने के प्राकृतिक तरीकों की तलाश कर रहे हैं, तो इन अस्वास्थ्यकर आदतों को छोड़ दें।

10. लीन मीट का सेवन करें( Consume Lean Meats)

पोल्ट्री जैसे लीन मीट विटामिन बी6 से भरपूर होते हैं। यह एक महत्वपूर्ण विटामिन है जिसकी कमी से शरीर का इम्यून  सिस्टम कमजोर हो जाता क्योंकि यह डब्ल्यूबीसी सहित नई ब्लड सैल्स के उत्पादन का भी समर्थन करता है।

चिकन और टर्की के साथ उबला हुआ, ग्रिल्ड या सूप का सेवन इम्यून  हेल्थ  को बढ़ावा देता है और सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षणों को कम करता है।

बीमारी के दौरान निर्धारित अधिकांश मुख्य चिकन सूप कोंड्रोइटिन(chondroitin) और पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं जो इम्युनिटी  में सुधार करते हैं।

पूछे जाने वाले प्रश्न(FAQs)

1. डब्ल्यूबीसी  की उच्च संख्या क्या है?

11,000/माइक्रोलीटर की सीमा से अधिक डब्ल्यूबीसी  वाले रोगियों की संख्या अधिक मानी जाती है।

2. क्या 8.0 डब्ल्यूबीसी  की गिनती सामान्य है?

सामान्य डब्ल्यूबीसी  रेंज 5-10 K/uL के बीच होती है। तो, 8.0 K/uL को सामान्य माना जाता है।

3. एक खतरनाक डब्ल्यूबीसी  गणना क्या है?

डब्ल्यूबीसी  का स्तर जो 11,000/माइक्रोलीटर से अधिक है, खतरनाक माना जाता है क्योंकि यह एक अंतर्निहित इन्फेक्शन या पुरानी बीमारी का संकेत देता है।

निष्कर्ष(Conclusion)

डब्ल्यूबीसी  किसी के स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण मार्कर है। असामान्य स्तर आमतौर पर खराब स्वास्थ्य का संकेत देते हैं, विशेष रूप से इन्फेक्शन या शरीर में अन्य पुरानी स्थितियों की घटनाएं । यदि आपको निम्न या उच्च डब्ल्यूबीसी स्तर का डायग्नोज़ किया जाता है, तो अपने आहार को समृद्ध करना सुनिश्चित करें और अपनी संपूर्ण प्रतिरक्षा(overall immunity)को अनुकूलित और बेहतर बनाने के लिए एक स्वस्थ जीवन शैली का नेतृत्व करें।

Share

Prekshi Garg is a young, dynamic, energetic, and meritorious professional biotechnologist. She is a merit rank holder in her post-graduation and a skilled bioinformatician with great zeal to do her best in neurosciences. She is currently working in the area of Neurotranscritomics dealing with neurodevelopmental and neurodegenerative disorders. She has presented many papers at different scientific forums and is awarded ‘Representing the Institution in Scientific Events’ citation by Amity University Uttar Pradesh and Top position in Student Assistantship Program held at Amity University in addition to awards won for oral presentations in different scientific deliberations. Prekshi has published a good number of papers and book chapters during the start of her academic career itself. Her tremendous skills and knowledge make her a good blend of biotechnology and bioinformatics.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Free Call back from our health advisor instantly